दुर्ग:15 साल के कार्यकाल में रमन सरकार ने एक भी पट्टा नहीं बांटा, पीएम आवास योजना का फंड न देकर मोदी सरकार ने किया योजना का बंटाधार :अलताफ अहमद।

0

दुर्ग: पीएम आवास योजना का फायदा हितग्राहियों को न मिलने के मामले को लेकर भाजपा ने आगामी 15 फरवरी को विधायक निवास का घेराव करने की तैयारी शुरू कर दी है। इधर, इस मामले को लेकर राज्य मदरसा बोर्ड के चेयरमेन अलताफ अहमद ने भाजपा पर पलटवार करते हुए कहा है कि गरीबों का कल्याण करने में कांग्रेस सरकारों ने ही हमेशा पट्‌टा वितरण और आवास योजनाओं का लाभ देने का काम किया है। वर्तमान में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार गरीबों को पट्‌टा वितरण सहित अन्य कल्याणकारी योजनाओं का फायदा देने में पूरे देश में अव्वल है। 15 साल के भाजपा सरकार के कार्यकाल में एक भी पट्‌टा गरीबों को नहीं दिया गया। भाजपा नेता किस आधार पर पट्‌टा वितरण को लेकर आंदोलन कर रहे हैं।

अलताफ ने कहा कि गरीबों को पट्‌टा वितरण करने के मामले में हमेशा कांग्रेस सरकारें ही आगे रही हैं। अविभाजित मध्यप्रदेश में तत्कालीन मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह, मोतीलाल वोरा, दिग्विजय सिंह ने गरीबों को पट्‌टा दिया। राज्य निर्माण के बाद 15 साल के रमन शासनकाल में गरीबों को एक भी पट्‌टा नहीं दिया गया। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने संवेदनशील फैसला लेते हुए गरीबों को पट्‌टा वितरण करने का फैसला किया है। इस मामले में भाजपा का विरोध महज दिखावेबाजी के सिवा कुछ नहीं है।अलताफ ने तंज कसते हुए भाजपा नेताओं से सवाल किया है कि पीएम नरेंद्र मोदी ने 2022 तक पूरे देश में सभी आवासहीन लोगों को आवास देने की घोषणा का क्या हुआ ? सच ये है कि केंद्र सरकार ने समय पर इस योजना के लिए राशि ही नहीं दी। मोदी सरकार की अन्य हवा हवाई  योजनाओं की तरह इस योजना ने भी समय से पहले ही दम तोड़ दिया। हाल ये है कि छत्तीसगढ़ में लाखों लोगों को पक्के आवास नहीं मिले हैं। पूरे देश में इस योजना का यही हाल है। भाजपा नेताओं को इस मामले में विरोध प्रदर्शन करना है तो दिल्ली जाकर केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करें। आवास मामले को लेकर विरोध प्रदर्शन के भाजपाई प्रपंच को जनता अच्छी तरह समझ रही है। संवाददाता:इम्तियाज मंसूरी प्रदेश प्रमुख छ.ग.) उद्घोष समय न्यूज़

यह भी पढ़ें:   सूत्र सम्मान अलंकरण में डॉ. संजय अलंग ने कोरिया की मिट्टी को किया याद

Leave A Reply

Your email address will not be published.