एकेएस के डिपार्टमेंट ऑफ़ सीमेंट टेक्नोलॉजी में जूनियर्स की फ्रेशर्स पार्टी और सीनियर्स के लिए फेयरवेल साथ-साथ।

0

सतना। एकेएस के डिपार्टमेंट ऑफ़ सीमेंट टेक्नोलॉजी में जूनियर्स की फ्रेशर्स पार्टी और सीनियर्स के लिए फेयरवेल की सरगर्मी रही । स्टूडेंट्स में पुनर्लेखन की परंपरा,शास्त्रीय नृत्य, इतिहास को खुद को दोहराने का क्लासिक चलन भारतीयता की फेहरिस्त, एजुकेशन के समस्त तकाजों को निरापद और सुरक्षित जरूर रखें इसकी नसीहत दी गई। स्टूडेंट्स को जिस चीज की जरूरत है वह है संतुलन। वर्तमान की कसौटियों पर कोई अतीत को नहीं रख सकता यही कहा टीचर्स ने। कुछ तमगे प्रदान किए गए ।कई अनूठी युक्तियां प्रोफेसर जी.सी मिश्रा जी ने बताई और छात्रों को बेहतर कराने का जुनून लिए प्रोफेसर एस.के. झा विभाग अध्यक्ष ने कई सलाह दी।अपने टीचर्स का सानिध्य पाकर एकेएस विश्वविद्यालय के स्टूडेंट्स खुशी से फूले नहीं समा रहे थे। किरदार कई आए, अनोखी ,अनूठी, अविस्मरणीय, अकल्पनीय, अनकही बातें ,यादों के अनदेखे कोठार खुल रहे थे, बेहस की एक नई तर्ज चल रही है बतकहीं के नए अंदाज के तो कहने ही क्या। गीत नृत्य करते कलाकार अंगुली दबाने को मजबूर कर रहे थे। मुद्दत के बाद सीमेंट टेक्नोलॉजी डिपार्टमेंट में जूनियर्स और सीनियर्स अपने व्यस्त एकेडमिक शेड्यूल के बाद मस्ती के रंग में रंगे दिखे। इस कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के प्रो चांसलर अनंत कुमार सोनी ने कहा की अध्ययन के 5 वर्षों को अगर आपने मन से उपयोग कर लिया तो जीवन के बचे हुए वर्ष आप कंफर्टेबल रहेंगे और अगर आपने यह 5 वर्ष खराब किया तो जीवन के बचे वर्ष तकलीफ देगे ।प्रोफेसर जी सी मिश्रा ने अपने उद्बोधन में सीमेंट टेक्नोलॉजी में जॉब बताते हुए स्टूडेंट के पूर्व के प्लेसमेंट के कई नाम बताया और स्टूडेंट को प्रेरित किया फैकल्टी ए,के.भट्टाचार्य, राहुल उमर, रोहित उमर, गौरव शुक्ला, राजे खरे, प्रियंका सिंह, दीपाली ने भी शुभाशीष दिया। घड़ी की सुइयां जैसे ही शाम के हल्के धुंधलके की तरफ चहल कदमी करने लगी वैसे ही सीनियर्स और जूनियर्स ने मिलकर कार्यक्रम को अंजाम की तरफ पहुंचाया।जोश, जज्बे, जिद, जुनून और खुशी के माहौल में मोबाइल सेल्फी के लिए उंगलियों के बीच फंसे और कई फ्लैशलाइट चमकने लगी। यादों का एल्बम खुशी के रंगों से सराबोर रहे ।मौसम खुशगवार था। कुछ मिट्टी की शोधी खुशबू और कुछ बारिश की बूंदे जैसे ही जूनियर्स सभागार के अंदर आने के लिए रंग-बिरंगे लखडक और विभिन्न वेस्टर्न और भारतीय परिधानों में पहुंचे, दरवाजे पर मुस्कुराते हुए सीनियर्स ने उन्हें होली रोली टीका और चावल लगाकर उन्हें मुबारकबाद दी। यह विश्वविद्यालय की दहलीज पर स्कूल के बाद जूनियर स्टूडेंट्स का पहला कदम था। यादों की गलियों से सीनियर्स के लिए एक आवाज आई….. उजाले आपकी यादों के हमारे साथ रहने दो, अब तो आप करियर की बुलंदियों को छुएंगे यह सीनियर्स के लिए जूनियर्स ने टैगलाइन दी। फोटो और वीडियो के लिए कैमरे की में आने के लिए जूनियर्स और सीनियर्स मंच पर एकत्रित हुए। ख़ुशी नामदेवनृत्य
केशव तिवारी,भाषण
निशा सिंह,नृत्य,
तनय शुक्ला और रंजीत विश्वकर्मा, गीत और मिमिक्री
अभय सिंह, नाचो
के साथ सीनियर्स और जूनियर्स ने नये नये खेलों का आयोजन किया पुरस्कार वितरण किया गया। बीटेक से मिस्टर फ्रेशर शिवा, मिस फ्रेशर ऐशानी मित्रा, डिप्लोमा से मिस्टर फ्रेशर अभय सिंह और मिस फ्रेशर आकांशी सिंह खिताब की हकदार बनी। फेयरवेल पार्टी के सितारे बीटेक से मिस्टर फेयरवेल कृष्णा विश्वकर्मा, मिस फेयरवेल साक्षी श्रीवास्तव और डिप्लोमा से मिस्टर फेयरवेल केशव रहे। इनके अलावा अनुभव, सुभाष, चेतन प्रवीण, बादल, अनुज, खुशी, अभिषेक, कीर्तन, अभय, कृष्णा के सहयोग से कार्यक्रम संपन्न हुआ। और लक्ष्मण भैया ने फोटो लेने में कोई देर नहीं की ।लजीज व्यंजनों की खुशबू से शराबोर कक्ष में सभी आए ।बातचीत की अपने फोन नंबर शेयर किये। जूनियर्स को आने की बधाई और सीनियर्स को जाने के बाद भविष्य की शुभकामनाएं ।मौका भी था और दस्तूर भी। चलन के हिसाब से सभी ने एक दूसरे को मुबारकबाद दी और फिर मिलने का वादा करते हुए एक गीत प्ले किया गया फिर मिलेंगे चलते-चलते, गुड नाइट, शुभ रात्रि, सायोनारा, सुबह से अनवरत शुरू हुआ यह सफर देर शाम तक म्यूजिक की धीमी धीमी गति,इंद्रधनुषी प्रकाश की छटा, रंग-बिरंगे विशिष्ट परिधानों में जूनियर्स ,सीनियर्स ने इस पूरे माहौल को खूबसूरती से लवरेज कर दिया।

यह भी पढ़ें:   भाजपा अटल बिहारी बाजपेई मंडल अध्यक्ष प्रियंक त्रिपाठी के नेतृत्व में महापौर योगेश ताम्रकार का हुआ ऐतिहासिक स्वागत

Leave A Reply

Your email address will not be published.