दवा प्रतिनिधियों के लिए न्यूनतम वेतन 26000 लागू करें मध्यप्रदेश की सरकार

0



मध्यप्रदेश छत्तीसगढ़ मेडिकल एंड सेल्स रिप्रेजेंटेटिव यूनियन के राज्यस्तरीय आह्वान पर सतना इकाई द्वारा श्रमायुक्त के नाम सहायक श्रमायुक्त सतना के द्वारा ज्ञापन सौंपा गया।
सतना इकाई के उपाध्यक्ष कॉमरेड राकेश सिंह परिहार बताया कि सतना इकाई द्वारा पुष्करणी पार्क से मोटरसाइकिल रैली निकालते हुए सतना श्रमायुक्त कार्यालय के सामने जोरदार प्रदर्शन किया गया ।
प्रदेश अध्यक्ष कॉमरेड संजय सिंह तोमर ने धरना को संबोधित करते हुए कहा कि आज जिस तरह से मध्यप्रदेश की सरकार दवा प्रतिनिधियों की समस्याओं को लेकर गंभीर नही है 2016 को मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव के लिए न्यूनतम वेतन घोषणा करने के बाबजूद पिछले 9 सालों से आज तक रिवीजन तक नही किया है,और आज भी प्रदेश के मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव को न्यूनतम वेतन नहीं मिल रहा है,इसलिए हमारी मांग है कि अविलंब न्यूनतम वेतन 26000 करते हुए दवा उद्योग पर दवाब बनाते हुए न्यूनतम वेतन सुनिश्चित करना चाहिए।
प्रादेशिक सचिव कॉमरेड वीरेंद्र सिंह रावल ने बताया कि मध्यप्रदेश के सभी मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव के लिए आठ घंटे को लागू किया जाय एवं सेल्स प्रमोशन एम्प्लाइज 1976 में सेक्शन 2(D) एवं आईडी एक्ट में सेक्शन 2(S) को अमेंडमेंट किया जाय और मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव के लिए लागू सेल्स प्रमोशन एम्प्लाइज एक्ट 1976 को प्रभावी बनाया जाय।
सतना इकाई के सह सचिव कॉमरेड आनंद सिंह चौहान ने जानकारी देते हुए बताया कि आगामी 7 अगस्त को भोपाल में मध्यप्रदेश की 19 इकाइयां अपने सदस्यो के साथ श्रमायुक्त इंदौर के खिलाफ भोपाल में धरना प्रदर्शन करेंगे।
आज धरना प्रदर्शन रैली में सतना इकाई के कोषाध्यक्ष कॉमरेड प्रशांत केसरवानी,कॉमरेड विकास त्रिपाठी, धर्मेन्द्र पांडे, विवेक यादव,अंकुश मिश्रा , उमेश सिंह , कुमुद खरे , पवन पटेल , के साथ सैकड़ो साथी शामिल रहे।
भवदीय-
आनंद सिंह चौहान
एमपीएमएसआरयू
सतना इकाई
सह सचिव

यह भी पढ़ें:   पैरामेडिकल स्टाफ पेशेंट के ज्यादा करीब होता है.डॉ. अवतार सिंह यादव.डीन मेडिकल कॉलेज,सतना। पैरामेडिकल के नवागत स्टूडेंट्स की वेलकम पार्टी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.