एग्रीकल्चर संकाय में चौथे दिन मोटे अनाज के बीज उत्पादन प्रक्षेत्र का भ्रमण एवं बीज परीक्षण का प्रयोग प्रदर्शन ।

0

सतना। एकेएस विश्वविद्यालय में चल रहे मोटे अनाज के उत्पादन तकनीक के तीसरे एवं चौथे दिन के हैंड्स ऑन ट्रेनिंग के अंतर्गत लघु धान्य फसलों की उत्पादन तकनीक के विषय में वृहद रूप से जानकारी प्रदान की गई। अनुवांशिकी एवं पादप प्रजनन विभाग के राजवीर सिंह एवं अयोध्या प्रसाद पांडे ,सहायक प्राध्यापक ने क्रमानुसार मृदा का चयन,बीज का चयन ,बीज दर, बुवाई की विधि, पौध से पौध की दूरी को विस्तार पूर्वक बताते हुए लघु धान्य फसलों की भौतिक एवं अनुवांशिक शुद्धता बीजों की गुणवत्ता से अवगत कराते हुए अनुसंधान की दृष्टि से पृथक्करण दूरी का प्रयोग प्रदर्शन किया। इसी क्रम में शुद्ध बीज उत्पादन की प्रमुख प्रक्रिया में पथ निरीक्षण, फसल निरीक्षण, समय-समय पर करना ,जिससे इसकी प्रजाति के पौधों को संक्रमित पौधों से अलग करना बताया गया। इसी कड़ी में छात्र-छात्राओं की जिज्ञासा को देखते हुए लघु धान्य फसलों हेतु रोग प्रबंधन ,खरपतवार प्रबंधन, सिंचाई एवं अन्य जानकारियां कटाई आदि की तकनीक पर विस्तार से चर्चा की गई। छात्र-छात्राओं को इस बात से भी अवगत कराया गया कि लघु धान्य फसले जैसे कुटकी, संवा ,काकून, एवं रागी ऐसी फसले हैं जो काफी समय तक बीज बैंक बनाकर सुरक्षित रखी जा सकती हैं ।

एकेएस विश्वविद्यालय के अनुवांशिकी एवं पादप प्रजनन विभाग के सहायक प्राध्यापक डॉक्टर वृंदावन सिंह द्वारा बीज परीक्षण की विभिन्न प्रक्रियाओं जैसे बीज अंकुरण ,बीज परीक्षण एवं बीजों की भौतिक शुद्धता परीक्षण को विस्तार पूर्वक बताते हुए छात्र-छात्राएं एवं प्रशिक्षणर्थियों से बीज परीक्षण को प्रायोगिक रूप से प्रयोग शाला में प्रयोग भी कराया गया तथा अंकुरण प्रतिशत, नमी प्रतिशत, भौतिक शुद्धता के लिए छात्र-छात्राओं द्वारा ज्ञान दिया गया ।जिसे छात्रों में स्वयं सीख कर, विश्वास करो की भावना जागृत करते हुए बड़ी खुशी का अनुभव किया ।इस प्रक्रिया के दौरान विभाग के प्रक्षेत्र सहायक लोकेश लोधी एवं प्रयोगशाला सहायक नीरज त्रिपाठी का योगदान सराहनीय रहा। कार्यक्रम में डॉ. के.के. गुप्ता बीमारी की रोकथाम, डॉ. एस.के. अग्रवाल, सहायक संचालक योजना, डॉ. कांतिराजे, पशु चिकित्सा ने भी छात्र-छात्राओं से संवाद किया। पहले दिन से लेकर अभी तक कार्यक्रम की समस्त जानकारी फैकल्टी अयोध्या प्रसाद पांडे और राफिया अमीन कुरैशी के माध्यम से प्राप्त हो रही है।

यह भी पढ़ें:   ARTO की तैनाती रामचंद्र भारती भेजे गए गोंडा परिवहन विभाग में हुआ फेरबदल।

Leave A Reply

Your email address will not be published.