बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे का शुभारंभ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कर सकते हैं इसी महीने 12 जुलाई को :

0

12 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) उत्तर प्रदेश के जालौन (Jalaun) जनपद में बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे का लोकार्पण करेंगे। साल 2017 में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने बुंदेलखंड में एक्सप्रेस-वे बनाने की योजना की घोषणा की थी। 

जिसके बाद 2017 के अगस्त महीने से इस एक्सप्रेस-वे को आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे के साथ जोड़ने का भी घोषणा किया गया और अगले साल 2018 से बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे का निर्माण कार्य की प्रक्रिया शुरू हो गया।

आइए जानते हैं बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे से जुड़े सभी जानकारियों के बारे में- एक्सप्रेसवे कहां से शुरू होकर कहां तक जाएगा? यह एक्सप्रेस वे प्रदेश के कौन से अन्य एक्सप्रेस वे से जुड़ेगा? इसके अलावा प्रदेश के कुछ प्रमुख शहरों से बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे तक कैसे जाया जा सकता है?

बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे रूट (Bundelkhand Expressway Route)

बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे की कुल लंबाई 296 किलोमीटर है। 4 लिंक एक्सप्रेस वे की आधारशिला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2020 में चित्रकूट में रखा था। बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे उत्तर प्रदेश के मध्यांचल को जोड़ते हुए बुंदेलखंड के कुल 5 जनपदों से होकर गुजरेगा। एक्सप्रेस वे चित्रकूट, बांदा, हमीरपुर, महोबा, जालौन, औरैया तथा इटावा जनपद से होकर गुजरेगा। बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे मध्यांचल के इटावा जनपद के पास खुद रेला गांव से शुरू होकर बुंदेलखंड के चित्रकूट जनपद तक जाएगा। गौरतलब है कि इन सातों जिलों के बीच यमुना, बेतवा, श्यामा, बागेन, केन, बिरमा और सेंगर नदी बहती है।

Bundelkhand Expressway (Image Credit : Social Media)

दिल्ली से बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे रूट (Delhi to Bundelkhand Expressway Route)

दिल्ली से बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे तक जाने के लिए यमुना एक्सप्रेसवे और आगरा लखनऊ एक्सप्रेस वे के जरिए जा सकते हैं। इस एक्सप्रेस-वे के निर्माण से दिल्ली से बुंदेलखंड के बीच की दूरी काफी ज्यादा घट गई है।

यह भी पढ़ें:   भारत का विदेशी मुद्रा भंडार लगातार आठवें हफ्ते हुआ कम :

वाराणसी से बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे रूट (Varanasi to Bundelkhand Expressway Route)

यदि आप वाराणसी से बुंदेलखंड एक्सप्रेस होकर बुंदेलखंड के किसी जिले में जाना चाहते हैं तो आपको वाराणसी से लखनऊ आगरा एक्सप्रेसवे पहुंचना होगा। बुंदेलखंड एक्सप्रेस पर यूपी के इटावा से शुरू होकर चित्रकूट जनपद तक जाता है।

गोरखपुर से बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे रूट (Gorakhpur to Bundelkhand Expressway Route)

गोरखपुर से बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे जाने के लिए आपको गोरखपुर से यूपी की राजधानी लखनऊ जाना होगा। यहां से आप लखनऊ आगरा एक्सप्रेस वे के जरिए बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे पर जा सकते हैं। बता दें सरकार जल्द ही बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे को पूर्वांचल एक्सप्रेस वे से भी जोड़ने का प्लान कर रही है। इसके बाद पूर्वांचल के गोरखपुर, वाराणसी समेत कई अन्य जनपदों से बुंदेलखंड की दूरी कम हो जाएगी।

कानपुर से बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे रूट (Kanpur to Bundelkhand Expressway Route)

कानपुर से बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे पर जाने के लिए आप मध्यांचल के इटावा जनपद से जा सकते हैं। बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे इटावा जनपद से शुरू होकर बुंदेलखंड के चित्रकूट जिले गुजरती हैं, इस बीच चित्रकूट के पांच अन्य जनपद पड़ते हैं।

Bundelkhand Expressway (Image Credit : Social Media)

बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे से लाभ

बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे की शुरुआत से बुंदेलखंड समेत राज्य के कई अन्य हिस्सों में भी विकास गति तेजी से बढ़ेगी। बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे बुंदेलखंड के कई और अविकसित जनपदों को आपस में जोड़ेगा, साथ ही यमुना एक्सप्रेसवे और आगरा के जरिए बुंदेलखंड से दिल्ली की दूरी भी काफी कम हो जाएगी। एक अनुमान के मुताबिक बुंदेलखंड चित्रकूट से राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के बीच यात्रा का समय अब 14 घंटे के बजाय महज 8 घंटे ही रह जाएगा। इस एक्सप्रेस वे के शुरुआत से कृषि, उद्योग, खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों, पर्यटन, शिक्षा तथा हथकरघा समेत विभिन्न क्षेत्रों में लोगों को रोजगार का अवसर मिलेगा। इसके अलावा इस एक्सप्रेस वे से धार्मिक पर्यटन को काफी ज्यादा बढ़ावा मिलेगा। देश के कई हिस्सों से तमाम लोग बुंदेलखंड के चित्रकूट धाम दर्शन के लिए जाते हैं, अब इस एक्सप्रेस वे के शुरुआत से लोग और आसानी से भगवान राम के दर्शन के लिए चित्रकूट पहुंच सकेंगे।

यह भी पढ़ें:   संविधान की आठवीं अनुसूची में गारो और खासी भाषा को किया जा सकता है शामिल :

Bundelkhand Expressway (Image Credit : Social Media)

बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे के अगर बुनियादी ढांचे की बात करें तो इस एक्सप्रेस-वे के बीच कुल 18 फ्लाईओवर, 14 बड़े पुल, 266 छोटे पुल, चार रेलवे ओवरब्रिज, 7 रैम प्लाजा तथा 6 टोल प्लाजा बनाए गए हैं। वर्तमान में इस एक्सप्रेस-वे को महज चार लेन से ही शुरू किया जाएगा, मगर भविष्य में और ज्यादा भार बढ़ने पर इस फैसले को 6 दिन तक बढ़ाया जा सकता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.