प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अक्षय तृतीया, परशुराम जयंती और बसव जयंती के साथ-साथ देशवासियों को ईद की दी शुभकामनाएं :

0

उन्होंने ट्वीट कर देश के सभी नागरिकों को बधाई दी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को देशवासियों को अक्षय तृतीया, परशुराम जयंती और बसव जयंती पर शुभकामनाएं दीं. बसव जयंती 12वीं शताब्दी के दार्शनिक और समाज सुधारक बसवेश्वर के जन्म के उपलक्ष्य में मनायी जाती है. प्रधानमंत्री ने बसवेश्वर को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए ट्वीट किया कि उनके संदेश और आदर्श दुनिया भर के लाखों लोगों को प्रेरित करते रहते हैं. एक अन्य ट्वीट में उन्होंने देशवासियों को परशुराम जयंती पर बधाई दी.

उन्होंने कहा कि भगवान परशुराम दया और करुणा के साथ ही अपने शौर्य और पराक्रम के लिए पूजनीय हैं. अक्षय तृतीया की शुभकामनाएं देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं कामना करता हूं कि यह विशेष दिन सभी के जीवन में समृद्धि लाए.

बता दें कि आज तीन मई को भगवान परशुराम जयंती, अक्षय तृतीया और बसव जयंती के साथ-साथ ईद भी है. उन्होंने देशवासियों को ईद की बधाई भी दी है. उन्होंने कहा कि ईद-उल-फतर की ढेर सारी शुभकामनाएं. यह शुभ अवसर हमारे समाज में एकजुटता और भाईचारे की भावना को बढ़ाए. सभी के उत्तम स्वास्थ्य समृद्धि की कामना करता हूं.

बसव जयंती के बारे में कुछ जानकारी

बसव जयंती वीरशैव लिंगायत हिंदुओं का सबसे बड़ा त्योहार है. लिंगायत मत के प्रसारक भगवान बसव की जयंती को कर्नाटक में बड़े की धूम-धाम से मनाया जाता है. भगवान बसव को लिंगायत परंपरा के संस्थापक संत भी कहा जाता है.

अक्षय तृतीया और परशुराम जयंती

हर साल बैशाख महीने के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को भगवान विष्णु के छठे अवतार भगवान परशुराम जयंती मनाई जाती है. इसी तिथि को अक्षय तृतीया का त्योहार भी मनाया जाता है.

यह भी पढ़ें:   लोक सभा में महंगाई पर चर्चा का जवाब देते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भारत में मंदी की अटकलों को किया खारिज :

Leave A Reply

Your email address will not be published.