नगरीय निकाय के प्लेसमेंट कर्मचारियों को मिली निराशा, आक्रोशित कर्मचारियों ने की बड़े आंदोलन की तैयारी

0



सरगुजा। 15 अगस्त को छत्तीसगढ़ नगरीय निकाय प्लेसमेंट कर्मचारी महासंघ अपने पक्ष में बडी उत्सुक्ता के साथ कई महत्वपूर्ण व बडी घोषणा का इंतजार कर रहे थे। लेकिन नगरीय निकाय के प्लेसमेंट कर्मचारियों को निराशा हाथ लगी। गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ में 14 नगर पालिक निगम, 43 नगर पालिका परिषद् एवं 113 नगर पंचायतों कुल 170 नगरीय निकायों में कार्यरत 25000 (पच्चीस हजार) प्लेसमेंट कर्मचारियों का संगठन है एवं अपने सदस्यों के हितार्थ मांगों को लेकर विगत कई वर्षों से निरतंर संघर्षरत हैं। वर्तमान सरकार ने 10 दिवस में प्राथमिकता से हमारी मांगों को पूरा करने का वादा किया। इसी प्रकार जनघोषणा (वचन) पत्र के बिन्दु क्रमांक 11 एवं 30 में अनियमित कर्मचारियों के नियमितीकरण करने, छटनी न करने तथा आउट सोर्सिंग बंद करने को स्थान दिया है। परन्तु अद्यतन सरकार का लगभग 04 वर्ष पूर्ण होने के उपरांत भी नगरीय निकाय के प्लेसमेंट कर्मचारियों को नियमित करने हेतु सरकार किसी भी प्रकार का पहल नही की है। इस दौरान महासंघ के सरगुजा संभाग अध्यक्ष सौरभ यादव ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में 170 नगरीय निकायों में कार्यरत 25000 प्लेसमेंट कर्मचारी व उनके परिवार में काफी असंतोष एवं आक्रोष व्याप्त है। संभाग अध्यक्ष ने कहा कि प्लेसमेंट कर्मचारियों के द्वारा मुख्य रूप से समस्त नगरीय निकायों से प्लेसमेंट/ठेका प्रथा बंद कर, प्लेसमेंट कर्मी को नगरीय निकायों में समायोजन करते हुए 62 वर्ष की आयु तक नौकरी की सुरक्षा प्रदान कर नगरीय निकायों में कार्यरत प्लेसमेंट कर्मचारियों को एक निश्चित समयावधि निर्धारित करते हुए निकायों में संविलियन/नियमित करने की मांग रखी थी। लेकिन निराशा हाथ लगने से अब आक्रोशित कर्मचारी बड़े आंदोलन में जाने की तैयारी कर रहे हैं। जिसके संबंध में आगामी दिनों में राजधानी रायपुर में महासंघ के प्रदेश पदाधिकारियों के साथ-साथ संभाग अध्यक्षों व छत्तीसगढ़ के समस्त 33 जिलों के जिलाध्यक्षों को बैठक में शामिल होने हेतु कहा गया है।
संभाग प्रमुख दुर्गा गुप्ता

यह भी पढ़ें:   भूपेश है तो भरोसा है का दौर आने से पहले खत्म हुआ, हम नहीं चरण दास महंत का बयान इसका संकेत : संजय श्रीवास्तव

Leave A Reply

Your email address will not be published.