रोड नही तो वोट नहीं : अनिश्चिकालीन धरने पर बैठे ग्रामवासी

0


भाजपा सरकार की मेहरबानी: ग्राम पंचायत मौहार , नैना व दिदौंध में आज तक नहीं बनी पक्की सड़क
सतना। एक तरफ मध्यप्रदेश सरकार बेहतर विकास का दम भरती है कि हमने जिले के साथ सभी ग्राम पंचायतों में विकास के तमाम काम किये हैं लेकिन सरकार के तमाम वादे खोखले साबित हो रहे हैं ।बाकी विकास कार्य तो छोड़िए कुछ ग्राम पंचायतों में सड़क ही नहीं है जहां से विकास कार्य प्रारंभ होता है। लोगों की नाराजगी इस कदर बढ़ गयी है कि आने वाले विधान सभा चुनाव का बहिष्कार कर रहे हैं। रोड नहीं तो वोट नहीं के पोस्टर लगाकर अपना विरोध जता रहे हैं। मामला जिले के रैगावं विधान सभा के कोठी ब्लाक के ग्राम पंचायत मौहार,नैना व दिदौंध का है जहां आजादी के 75 साल बाद भी गांव सड़क विहीन है । कई बार आवेदन निवेदन के बाद भी आज तक सड़क नहीं बन पायी और अन्तत: ग्रामवासी 27 सितंबर से अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गये है और रोड नहीं तो वोट नहीं का नारा बुलंद कर रहे हैं।
अनशन में बैठे ग्रामीणों ने बताया कि आज भी तीन पंचायतों मौहार , नैना व दिदौंध के लगे मोहल्ले जिनकी आबादी लगभग 3000 के करीब है वह सड़क विहीन है ।आश्चर्य की बात है कि इस मार्ग में दो आगनबाड़ी,दो शिक्षा गारंटी स्कूल, एक उप स्वास्थ्य केन्द्र और एक शासकीय खेल का मैदान भी है जहां पहुंचना बेहद मुश्किल होता है और कई मोहल्लों में तो बरसात के समय रास्ता कीचड़ से सन जाता है और फिर निकलने की कोई गुंजाइश ही नहीं रह जाती है। सभी ग्रामवासियों ने कई बार जिला पंचायत ,जनपद पंचायत व जिला कलेक्टर को आवेदन भी दिया है । विधानसभा उपचुनाव के पहले मुख्यमंत्री द्बारा सड़क निर्माण कार्य तत्काल स्वीकृत का आदेश भी नैना मोड़ के लिए किये थे परन्तु इस बात को ढाई साल होने के बावजूद एक टाली मुरूम तक नहीं डाली गई । आक्रोशित और परेशान ग्रामीण नैना चौराहे पर दिनांक 27/09/23 से अनिश्चितकालीन अनशन पर बैठ गये हैं। ग्रामीणों की मांग है कि नैना चौराहे से रजहरा,उबक ,भठिया की ओर जाने वाली सड़क की जांच कर उसका पक्का निर्माण कार्य जल्द से जल्द कराया जाये अन्यथा अनिश्चिकालीन धरना जारी रहेगा।

यह भी पढ़ें:   एकेएस के कला विभाग में मना मध्यप्रदेश का स्थापना दिवस ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.